संविधान दिवस पर कैलाश सत्यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन ने ….5000… से अधिक बच्चों को पढ़ाया संविधान का पाठ और बताया उनके कर्तव्य और अधिकार

0
8

अनीश अग्रवाल की खास रिपोर्ट

कैलाश सत्यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन अपने सहयोगी संगठनों के साथ मिलकर देशभर के 20 राज्‍यों के 410 से अधिक जिलों में सरकार और प्रशासन के साथ मिलकर एक करोड़ से अधिक बच्‍चों के साथ संविधान दिवस मनाया। इस अवसर केएसएसीएफ ने—– (संगठन का नाम)………… के साथ मिलकर बिहार के38 —–जिलों के —- स्कूलों,—– आंगनवाड़ी केंद्रो……. चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूशन…… में ——- बच्चों ने सविधान दिवस समारोह में हिस्सा लिया।
देश के विभिन्न हिस्सों में आयोजित—(कुल संख्या)—— कार्यक्रम में बच्‍चों ने सरल और स्थानीय भाषा में संविधान की प्रस्‍तावना का पाठ किया। बच्‍चों को भारतीय संविधान में उल्लिखित अधिकारों, कर्तव्‍यों और उनकी मुख्‍य विशेषताओं से भी अवगत कराया गया। इस अवसर पर बच्चों ने संविधान में उल्लेखित कर्तव्यों और अधिकारों के पालन की शपथ भी ली। राज्य में आयोजित इस कार्यक्रम में…….. (नाम)…………….. प्रमुख गणमान्य लोगों ने हिस्सा लिया।

केएससीएफ द्वारा बच्चों के संविधान पाठ के इस कार्यक्रम का आयोजन देश की राजधानी दिल्ली से लेकर राज्य के मुख्यालय और जिला स्तर पर आयोजित किया गया। जिसमें निजी और सरकारी स्कूल, आंगनबाड़ी और चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूशन, तेजस्विनी क्‍लब, विधिक सेवा प्राधिकरण समेत बाल मित्र ग्राम, बाल मित्र मंडल सहित अन्य कई संस्थानों के बच्चों ने हिस्सा लिया। इसमें बड़े पैमाने पर दूर दराज के अति पिछड़े इलाके में रहने वाले बच्चों से लेकर आदिवासी, वंचित और हाशिए के बच्चे भी शामिल हुए। भारत में हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है। वर्ष 1949 में 26 नवंबर को संविधान सभा द्वारा भारत के संविधान को स्‍वीकार किया गया, जो 26 जनवरी 1950 से प्रभाव में आया। भारत सरकार आजादी के 75 साल पूरे होने पर साल भर तक अमृत महोत्सव मना रही है। जिसके दौरान इस बार संविधान दिवस को बड़े पैमाने पर मनाया गया। कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन्स फाउंडेशन ने भी सरकार के साथ मिलकर संविधान दिवस मनाया और इतिहास रचा। संविधान दिवस के अवसर पर किसी भी गैर सरकारी संगठन द्वारा पहली बार इतने अधिक बच्‍चों तक पहुंचा गया। दूसरी ओर इतने बड़े पैमाने पर दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले हाशिये से लेकर विशेषाधिकार सम्‍पन्‍न बच्‍चों तक को संविधान की प्रस्तावना का पहली बार एक साथ मिल कर पाठ करते देखा गया।
कार्यक्रम में बच्चों की ऐतिहासिक भागीदारी पर कैलाश सत्यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी श्री शरद चंद्र सिन्‍हा ने कहा, “हमें यह जानकर खुशी हो रही है कि हमारे सहयोग से विभिन्न पृष्ठभूमि के गरीब और हाशिए के बच्चों ने संविधान दिवस पर हमारे संविधान की प्रस्तावना पढ़ी। निचली कक्षाओं में पढ़ने वाले जो बच्चे खुद नहीं पढ़ सकते थे, उन्हें भी संविधान का पाठ पढ़ाया गया। बच्चों को संविधान में निहित प्रत्येक नागरिक के अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में भी समझाया गया। हमने अपने बच्चों के बीच न्याय, समानता, स्वतंत्रता और बंधुत्व के मूल्यों को स्थापित करने और उन्हें उनके अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में जागरूक करने के लिए देशभर में यह कार्यक्रम किया। हम दृढ़ता से मानते हैं कि एक न्यायपूर्ण, समान और एकजुट भारत बनाने का एकमात्र तरीका हमारे संविधान में निहित उच्च मूल्यों को शामिल करना है।”

कैलाश सत्यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन द्वारा संविधान दिवस पर आयोजित इस कार्यक्रम में राज्य सरकारों के अलावा बड़े पैमाने पर गैरसराकरी संगठनों भी हिस्सा लिया। यह कार्यक्रम पंजाब, हरियाणा, राजस्‍थान, उत्‍तराखंड, बिहार, झारखंड, असम, मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, हरियाणा, चंडीगढ़, गुजरात, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में आयोजित हुए। यह कार्यक्रम बच्चों में संविधान में निहित न्याय, समानता, स्वतंत्रता और बंधुत्व के मूल्यों को स्थापित करने और उन्हें उनके अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूक करने के लिए मनाया गया। नई पीढ़ी को इस बात से अवगत कराया गया कि देश की एकता, अखंडता और गरिमा की हर हाल में रक्षा करनी है। इस अवसर पर—–सहयोगी संगठन और उसेक अधिकारी का नाम….. ने कहा, “हमारा मकसद था देश की भावी पीढ़ी को संविधान की मूल अत्मा से परिचित कराते हुए उन्हें उनके कर्तव्य और अधिकार बताए जाएं। ताकि वे भविष्य में एक बेहतर नागरिक बन सकें। जिस तरह से हमारे कार्यक्रम से बड़े पैमाने पर बच्चे और लोग जुड़े उससे हम कह सकते हैं कि हमारा प्रयास सार्थक रहा।”

संपर्क-
सत्य प्रकाश
8709401631
जिला कोआर्डिनेर
सीतामढ़ी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here