बगहा-एसएसबी जवानों ने साम्प्रदायिक सदभाव अभियान के तहत 5 किमी का किया मैराथन दौड़

0
15

बगहा:-एसएसबी 65 वीं वाहिनी के जवानों ने साम्प्रदायिक सदभाव अभियान के अवसर पर 05 किमी का मैराथन दौड़ आयोजित किया गया ।उक्त जानकारी एसएसबी द्वितीय कार्यवाहक कमांडेन्ट पंकज डंगवाल ने दी । उन्होंने बताया कि एसएसबी द्वारा साम्प्रदायिक सदभाव अभियान चलाया जा रहा है । जिसके तहत मंगलवार को अधिकारी व जवानों को 05 किमी मैराथन दौड़ कार्यक्रम का आयोजन किया गया । इस प्रतियोगिता में वी विनीश प्रथम कार्ति एल द्वितीय स्थान सुनिल बरेला अशोक तृतीय स्थान प्राप्त किया ।इस दौरान कमांडेन्ट ने सभी कार्मिकों को संबोधित करते हुये कहा कि हमारे जीवन में साम्प्रदायिक सदभावना का बहुत महत्व है । सांप्रदायिक सदभावना से देश एक सूत्र में बंधता है और हमारे देश के सभी नागरिक भारतीय कहलाते हैं । देश के नागरिक अलग – अलग जाति धर्म को विशेष महत्व ना देकर भारतीयता को ज्यादा महत्व दें। क्योंकि हम सब भारत के नागरिक हैं और हम भारतीय कहलाते हैं । जिस देश में सांप्रदायिक सदभावना होगी वह देश वास्तव में तेजी से विकास करता है । हमें अलग – अलग संप्रदाय के लोगों के प्रति ईश्या की भावना नहीं रखनी चाहिए और एक दूसरे के साथ मिलजुल कर जीवन जीना चाहिए इसी में हमारा भला है । सांप्रदायिक सदभावना से हमारा देश विकास करता है । इसकी वजह से हमारा देश राष्ट्रीय एकता को ज्यादा महत्व देता है और देश एक सूत्र में बंध कर रहता है । देश के अलग – अलग संप्रदाय के लोग एक दूसरे की मदद करते हैं । वह एक दूसरे के साथ प्रेम पूर्वक रहते हैं । वास्तव में सांप्रदायिक सदभावना जिस देश के नागरिकों में है । वह देश तेजी से आगे बढ़ता है । हमारे देश में कई जाति , धर्म और भाषाओं के लोग रहते हैं । अलग अलग धर्मों के लोगों ने अपने – अपने ईश्वरों के अलग – अलग नाम रख लिए हैं । कोई अल्लाह कहता है तो कोई भगवान । अलग – अलग संप्रदाय के लोगों में अपनी अलग – अलग प्रथा है । अलग तरह की वेशभूषा , अलग सोच है । जिसके आधार पर वह अपने आपको अलग समझते हैं । लेकिन वास्तव में इंसान तो एक ही होता है । साम्प्रदायिक सदभावना से तात्पर्य ऐसी भावना से है । जिसमें सभी संप्रदाय के लोग एक दूसरे के साथ मिलजुल कर रहते हैं । एक दूसरे के प्रति अच्छी भावना रखते है और वह अपने आपमें किसी भी तरह का भेदभाव ना समझें । जिससे देश का तेजी से विकास होगा । हमारे देश में भले ही अनेक जाति , धर्म और भाषाओं के लोग रहते हैं लेकिन हमारा देश एक हैं । हमें हमारे देश में राष्ट्रीय एकता बनाकर रखना चाहिए । लोगों में किसी तरह से भेदभाव नहीं समझना चाहिए अगर सांप्रदायिक सदभावना नहीं होगी तो देश में कई तरह के भेदभाव हो सकते हैं । इसके ना होने की वजह से अनेक धर्म , जाति के लोगों में लड़ाई , दंगे भी हो सकते हैं । हमें संप्रदायक सदभावना रखनी चाहिए । इस अवसर पर सहायक कमांडेंट अजय कुमार , निरीक्षक / संचार अशोक , सहायक उप निरीक्षक / सामान्य रोशल लाल ठाकुर तथा अधिनस्थ अधिकारी एवं जवान उपस्थित रहे ।

बगहा से रविश मिश्र की रिपोर्ट:———–

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here