बिहार का सबसे बड़ा अस्पताल PMCH कोरोना covid 19 जांच के नाम पर फंसा है अस्पताल।

0
57

अस्पताल प्रशासन चुप्पी साध कर बैठे है।

PMCH है बदहाल जांच के नाम पर मरीजो को दौड़ाया जाता है।

सूत्रों के अनुसार सबसे बड़ी बात यह है कि डॉक्टर के द्वारा मरीजो को देखे जाने के बाद पैथोलॉजी विभाग एबं एक्सरे विभाग में है दलालो का जमाबड़ा मरीजो से पूछा जाता है कि कौन सा जांच करना है।

बिहार के सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा रही है।

पटना से सनोवर खान के साथ मनोज सिंह की रिपोर्ट।

पटना :बिहार का सबसे बड़ा अस्पताल पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल जहा दूरदराज से इमरजेंसी में या फिर ओपीडी में मरीज इलाज कराने के लिए पहुंचते हैं। लेकिन उनके साथ ऐसा व्यवहार जैसा कि किसी अपराधी के साथ भी । नहीं होता है।
ओपीडी में इलाज करने वाले डॉक्टर तो बखूबी अपनी सेवा देते रहते हैं लेकिन पैथोलॉजी की हालत ऐसी है की जांच के नाम पर मरीजों को रोज दौराया जाता है। आप सोच सकते हैं कि मरीज को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने मे परिजन को कितनी आफत झेलना पड़ता है, कष्ट उठाना पड़ता है उसके बाद भी यदि उसकी जांच नहीं हो तो मरीज के मन मस्तिष्क पर क्या प्रभाव पड़ेगा। इसको ना तो कोई देखने वाला है ना कोई रोकने टोकने वाला है। इलाज के क्रम में कोरोना जांच के नाम पर मरीज को काफी दौराया जा रहा है। कब सुधरेगा स्वास्थ्य विभाग। सरकार के करोड़ रुपए खर्च होने के बावजूद मरीज को इसका उचित लाभ नहीं मिल रहा है। अनेक प्रकार के कीमती मशीने धूल फांक रही है। अस्पताल के चारों तरफ असामाजिक तत्व एवं दलालों का जमावड़ा रहता है जो भोले भाले मरीजों को बहला-फुसलाकर प्राइवेट क्लीनिक में लेकर चले जाते हैं। उसके तरफ पुलिस प्रशासन कोई ध्यान नहीं देता है हालांकि कई बार जिला प्रशासन के द्वारा दलालों को गिरफ्तार भी किया गया है फिर भी स्थिति नहीं बदली। मरीज के परिजनों ने बताया कुछ कर्मचारी यहां पैसा का भी डिमांड करते हैं और नहीं देने पर ठीक से काम नहीं कर पाते बेवजह दौड़ना पड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here