दीदी जी फाउडेशन के सौजन्य से समाज सेविका स्व.फुलझड़ी देवी जी की पुण्यतिथि पर सम्मान समारोह

0
35


20 अगस्त को अवकाश प्राप्त शिक्षकों के मिलन, विदाई एवं सम्मान समारोह का आयोजन
दीदीजी फाउंडेशन के सौजन्य से 20 अगस्त को परिवर्तन मीडिया सम्मान समारोह 2021 का आयोजन
समाज और राष्ट्र को जोड़ने की दिशा में लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माने जाने वाले पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका : डा: नम्रता आनंद
पटना, 17 अगस्त सामाजिक संगठन दीदीजी फाउंडेशन की संरक्षक, मार्गदर्शक और अविस्मरणीय समाज सेविका स्व.फुलझड़ी देवी जी की पुण्यतिथि के पावन अवसर पर 20 अगस्त को अवकाश प्राप्त शिक्षकों के मिलन, विदाई एवं सम्मान समारोह 2021 का आयोजन किया जा रहा है।
दीदी जी फाउंडेशन की संस्थापिका और अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय एवं राजकीय सम्मान से सम्मानित डा.नम्रता आनंद ने यहां बताया कि दीदीजी फाउंडेशन की संरक्षक, मार्गदर्शक और अविस्मरणीय समाज सेविका स्व.फुलझड़ी देवी जी की पुण्यतिथि के पावन अवसर पर आगामी 20 अगस्त को अवकाश प्राप्त शिक्षकों के मिलन, विदाई एवं सम्मान समारोह 2021 का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस अवसर पर परिवर्तन मीडिया सम्मान समारोह 2021 का भी आयोजन किया जा रहा है।
श्रीमती नम्रता आनंद ने बताया कि समाज और राष्ट्र को जोड़ने की दिशा में लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माने जाने वाले पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। समाज को उनकी सशक्त लेखनी की आज भी उतनी जरूरत है, जितनी पहले थी। उन्होंने कहा कि समाज के उत्थान और विकास में सक्रिय और अहम भूमिका निभाने से पत्रकारों की समाज परिवर्तन में सदैव महत्वपूर्ण भूमिका रही है।लोकतंत्र में पत्रकारों की भूमिका महत्वपूर्ण है। पत्रकारों के सकारात्मक सहयोग से ही विकास को गति मिलती है। समाज में पत्रकारों की अहम भूमिका को देखते हुये परिवर्तन मीडिया सम्मान समारोह 2021 का भी आयोजन किया जा रहा है, जिसके अंतर्गत पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाले पत्रकारों को सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि गरीब और सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों में प्रतिभा की कमी नहीं है। इन बच्चों को यदि प्रोत्साहित कर उन्हें उचित मंच दिया जाये तो वे भी अपनी प्रतिभा से लोगों को दिल जीत सकते हैं। उन्होंने बताया कि उनकी संस्था दीदी जी फाउंडेशन हमेशा से इस दिशा में काम कर रही है कि बच्चों में छुपी प्रतिभा को विभिन्न प्रकार से प्रशिक्षण देकर उन्हें सार्वजनिक मंच पर लाकर उनमें आत्मविश्वास लाया जा सके। इस कार्यक्रम के जरिये बच्चें जल जीवन हरि