पटना स्थित आईएमए हॉल में भूमिहार ब्राह्मण समाजिक फ्रंट की प्रतिनिधि बैठक आयोजित की गई।

0
54

मोना झा की खास रिपोर्ट

जिसमें पूरे प्रदेश के 38 जिलों के प्रतिनिधि शामिल हुए। इसमें मुख्य रूप से राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह, पूर्व मंत्री सुरेश कुमार शर्मा, पूर्व मंत्री अजीत कुमार, वीणा शाही, महाचंद्र प्रसाद सिंह, वरिष्ठ नेता हरेंद्र कुमार, सुधीर शर्मा बेगूसराय मेयर हरेंद्र कुमार,पूर्व विधायक रामाकांत पांडे, पूर्व मंत्री नवल किशोर शाही, राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष दिलमणि मिश्रा समेत अन्य सामाजिक लोगों ने कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की।

प्रतिनिधि सम्मेलन में फ्रंट के स्थायी अध्यक्ष के रूप में पूर्व मंत्री सुरेश कुमार शर्मा को चुना गया। जबकि कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में पूर्व मंत्री अजीत कुमार, सुधीर शर्मा और उपेंद्र प्रसाद सिंह को सर्वसम्मति से चुना गया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री व राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि हमारे समाज में किसानों की संख्या सबसे अधिक है। हमारे समाज के ज्यादातर लोगों का जीवन यापन खेती पर निर्भर है। ऐसे में जरूरी है कि हम किसी भी सरकार में रहे। लेकिन हम अपने लोगों की आवाज सरकार तक पहुंचाएं। जब आप अपने समाज की बात को उठायेंगे, तो लोगों को आप पर विश्वास होगा और वह आप से जुड़ेंगे और यही आपकी ताकत बनेगी। इसके बाद समाज के लोग आपके साथ कदम से कदम मिलाकर चलेंगे। तभी समाज आगे बढ़ेगा।

पूर्व मंत्री इंजीनियर अजीत कुमार ने कहा कि वह इस दिन का ढाई वर्षो से इंतजार कर रहे थे कि समाज के लोग एकजुट हो। आज वह दिन आ गया, जब हम सभी एक मंच पर जमा होकर अपने समाज की मजबूती की बात कर है। हमारा लक्ष्य है कि हम अपने पूर्वज स्वामी सहजानन्द सरस्वती, सर गणेश दत्त, श्री कृष्ण बाबू जैसे ऐतिहासिक विरासत को पुनः जीवित करें। उन्होंने गोपालगंज के साथी अरुण सिंह का हिम्मत की दाद देते हुए कहा कि उन्होंने कहा है कि फरवरी-मार्च के महीने में सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित करेंगे। जिसमें समाज के गरीब लड़कियों की शादी होगी। जिसमें शादी के साथ ही दूल्हे को नौकरी भी दी जाएगी। पूर्व मंत्री ने कहा कि वह अपनी जाति के विकास के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर देंगे। क्योंकि चुनाव के समय हमें मजबूर वोट समझा जाता है। हमें मान लिया गया है कि हम एक ही पार्टी विशेष को वोट करते हैं। ऐसे में हमें बंधुआ वोटर भी कहा जाता है और इससे निजात पाने की जरूरत है। अब हमें सभी पार्टियों में रहने की जरूरत है। इससे हमारी राजनीतिक सत्ता को ताकत मिलेगी। उन्होंने कहा कि मैं पद का भूखा नहीं हूँ। मैं समाज की प्रतिष्ठा के लिए लड़ रहा हूं। मुझे समाज की खोई हुई प्रतिष्ठा और एक लंबी विरासत को फिर से जिंदा करना है और यही कारण है कि आगामी 12 फरवरी और 13 फरवरीको मुजफ्फरपुर की धरती पर एक ऐतिहासिक राष्ट्रीय अधिवेशन का आयोजन किया जायेगा।

फ्रंट के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने कहा कि हमारा अतीत गौरवशाली रहा है। इसे एक बार फिर से गौरवशाली बनाना है। भले ही हम राजनीति अलग-अलग रूप से करें। लेकिन जाति की बात आएगी, तो हम सभी एकजुट होकर समाज पर विचार करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी बहुत बड़ी आबादी कृषि पर आधारित है। ऐसे में जरूरी है कि कृषि आधारित उद्योग को बढ़ावा दें ताकि हमारी युवा पीढ़ी खेती के साथ जुड़कर आर्थिक रूप से समृद्ध हो सके। उन्होंने कहा कि अगर हम राजनीति के पीछे जाएंगे, तो कमजोर समझे जाएंगे। अगर हम समाज को मजबूत करेंगे, तो राजनीति हमारे पीछे खुद-ब-खुद आएगी।

वही अन्य वक्ताओं में पूर्व विधायक आरपी सिंह, शत्रुघ्न तिवारी उर्फ चोकर बाबा, उपेंद्र प्रसाद सिंह समेत कई वक्ताओं ने अपने अपने विचार रखे और सामाजिक एकता को बढ़ावा देने पर बल दिया। वही धन्यवाद ज्ञापन धर्मवीर शुक्ला ने किया। जबकि मंच का संचालन सुधीर शर्मा द्वारा किया गया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में भूमिहार ब्राह्मण समाज के लोग एकजुट हुए। जिसमें कोई 38 जिलों की भागीदारी रही। सभी लोगों को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here