स्वास्थ्य उपकेंद्र गौशाला में तब्दील डॉक्टर नर्स की जगह गाय और भैंस उपस्थित नजर आए

0
90



रिपोर्टर पीके मिश्रा


खबर बिहार के रोहतास जिला से है।बिहार के सुशासन बाबू के राज्य में और हमारे अनुभवी स्वास्थ्य मंत्री के कार्यकाल में दावे तो स्वास्थ्य संबंधित बहुत किए जाते हैं इस करोना महामारी में केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार बार-बार स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने की बात कह रही है। हमारे बिहार की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार वासियों से वादा किया था कि बिहार की तस्वीर बदल देंगे।लेकिन स्वास्थ्य विभाग की गांव में क्या तस्वीर है यह दावथ प्रखंड क्षेत्र के डेढगांव उप स्वास्थ्य केन्द्र के तस्वीर देखने से समझ आ जाएगा। जहां स्वास्थ्य उपकेंद्र पर कब्जा कर भैंस बांधा गया है। रूम में गोबर के उपले रखें गए हैं। केन्द्र के बाहरी जमीन पर भी स्थानीय लोगों द्वारा अवैध रूप से कब्जा किया गया है। बाहर से लोगों द्वारा गोशाला ही जाना जाता है। ग्रामीणों द्वारा सरकारी जमीन पर अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए आवेदन दिया गया है। लेकिन सीओ द्वारा अभी तक कोई करवाई नहीं किया गया है।वहीं केन्द्र पर एएनएम भी कभी कभार आतीं हैं। जो एक दो घंटे बाद चली जाती है। ग्रामीण एवं पैक्स अध्यक्ष रणजीत सिंह, ने बताया कि विगत बीस वर्षों से यहां कोई प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी देखने नहीं आएं हैं। जबकि प्रखंड का बड़ा पंचायत डेढ़गांव है। यहां से दावथ सीएचसी करीब बीस किलोमीटर दूर है। यहां उपकेंद्र को बढ़ा कर बड़ा करना चाहिए था। लेकिन उसके उलट उप स्वास्थ्य केंद्र को गोशाला में तब्दील कर दिया गया है। वहीं उपकेंद्र पर पदस्थापित एएनएम सुनीता कुमारी ने बताया कि मुझे सप्ताह में एक दिन डेढ़गांव उपकेंद्र पर जाने के लिए रोस्टर बना है। मैं सप्ताह में एक दिन जाती हूं। यहां की स्थिति के बारे में हमने कई बार संबंधित अधिकारियों को जानकारी दे चुकी हूं। लेकिन अभी तक कोई कारगर कदम नहीं उठाया गया है। इस संबंध में हमारे रोहतास संवाददाता पी.के मिश्रा ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दावथ के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ० सौरभ प्रकाश से बात किए आइए सुनते हैं उन्होंने क्या कहा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here