प्रतिरोध मार्च निकाल कर सीपीआई कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री का पुतला फूंका

0
32



रिपोर्टर शमशाद आलम



रोहतास जिले के करगहर प्रखंड क्षेत्र के करगहर बाजार में रविवार को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सीपीआई के द्वारा डीजल ,पेट्रोल, गैस, दाल, बस भाड़ा इत्यादि में मूल्य वृद्धि के खिलाफ एवं तीनों काला कृषि कानून तथा नए श्रम कानून को वापस कराने के लिए करगहर विधानसभा के पूर्व सीपीआई प्रत्याशी महेंद्र प्रसाद गुप्ता के नेतृत्व में प्रतिरोध मार्च निकालकर प्रधानमंत्री का पुतला दहन किया गया। वक्ताओं ने कहा कि एक तरफ कोरोना महामारी से आम जनता त्रस्त है। दूसरी तरफ भाजपा सरकार आम जीवन उपयोगी वस्तुओं का मूल्य बढ़ाकर आम जनता को बेहाल कर के अपने आका अंबानी अडानी की तिजोरी भरने में लगी है। डीजल पेट्रोल शतक लगा चुका है,।सरसों तेल दोहरा शतक लगा चुका है। एवं गैस हजारा लगाने के करीब है। तो दूसरी तरफ सरकार द्वारा बस भाड़ा नहीं बढ़ाए जाने के बावजूद मनमाने ढंग से बस भाड़ा में वृद्धि कर दी गई है। आम जनता इस कमरतोड़ महंगाई से भुखमरी की कगार पर आ गई है।वहीं सीपीआई नेता महेन्द्र प्रसाद गुप्ता ने कहा कि उपरोक्त बिंदुओं की ओर सरकार का ध्यान आकृष्ट करते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी अंचल कमेटी करगहर रोहतास सरकार से मांग करती है। आमजन के जीवन उपयोगी वस्तुओं के मूल्य वृद्धि को वापस लिया जाए, तीनों काला कृषि कानून एवं नए श्रम कानून को वापस लिया जाए। इस महामारी में अपना जीवन यापन करने के लिए सभी गरीबों मजदूरों छोटे-छोटे व्यवसायियों को जीवन यापन भत्ता के लिए 7500 रुपया नगद महीना एवं मुफ्त में अनाज दिया जाए और जिन लोगों के पास राशन कार्ड नहीं है उन लोगों को भी मुफ्त में राशन दिया जाए। साथ ही साथ मनमाने ढंग से बस भाड़ा वृद्धि को तुरंत समाप्त कराया जाए। बढ़ते अपराध पर रोक लगाया जाए। केंद्र और राज्य सरकार के कार्यालयों में व्याप्त भ्रष्टाचार को बंद किया जाए । करगहर से पटना के लिए पथ परिवहन का बस चलाया जाए। करगहर बाजार का विद्युत फीडर अलग किया जाए। इन तमाम मांगों को लेकर सैकड़ों की संख्या में सीपीआई कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ में जमकर नारेबाजी की और मांगे नहीं मानने पर आगे चलकर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी। साथ ही वहीं अंत में वक्ताओं ने तीस जून को डीएम आफिस