डीजीपी का निर्देश,ढंग से पहने वर्दी वरना होगी अनुशासनिक कार्रवाई

0
140



रिपोर्ट : धीरज कुमार झा

बिहार पुलिस मुख्यालय ने अपने विभाग के सभी पुलिस अधिकारी एवं कर्मियों के लिए सख्त निर्देश जारी किया है। बिहार पुलिस के महानिदेशक एस के सिंघल ने जारी निर्देश में कहा कि अगर ड्यूटी के दौरान वर्दी में नहीं पाए गए तो अनुशासनात्मक कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा कि पुलिस सेवा एक विशिष्ट प्रकार की सेवा है जिसमें कार्मिकों की शारीरिक एवं मानसिक क्षमता पेशेवर दक्षता जैसे आंतरिक गुणों के साथ-साथ उनके बाहय अनुशासनिक गतिविधियों जिसके अंतर्गत पारस्परिक अंत:क्रिया एवं बोलचाल के तरीके के साथ-साथ पहनावा भी विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

आगे उन्होंने कहा कि पुलिस सेवा की विशिष्टता का एक महत्वपूर्ण आयाम उनका अलग परिधान अथवा वर्दी है। वर्दी न केवल पुलिस सेवा से जुड़े कर्मियों को विशिष्ट पहचान प्रदान करता है, आपितु यह संपूर्ण सेवा के मान-सम्मान एवं गौरव का भी प्रतीक है। साफ-सुथरा एवं समुचित तरीके से धारण की हुई वर्दी में पुलिसकर्मी आम जनों के बीच एक सकारात्मक छवि प्रस्तुत करते हैं एवं अनुशासन के प्रति प्रतिबद्धता का भी उजागर करते हैं। साथ ही यह बेहतर पुलिसिंग में भी एक महत्वपूर्ण आयाम की तरह कार्य करता है। उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस हस्तक के अध्याय 33 में वर्दी और परिधान के संबंध में विस्तृत रूप से उल्लेख किया गया है। साथ ही कई अनुषांगिक आदेशों द्वारा भी वर्दी के रख-रखाव एवं सही ढंग से धारण करने को लेकर दिशा-निर्देश निर्गत किए गए हैं।

पुलिस महानिदेशक एसके सिंघल ने दिशा निर्देश में कहा है कि कई बार यह देखा गया है कि ड्यूटी के दौरान पुलिस अधिकारी या फिर कर्मी वर्दी के बजाय अन्य लिबास पहने रहते हैं इसके साथ ही वर्दी पहनने या रखरखाव भी उचित मापदंड के अनुसार नहीं होता है। यह सब वर्दी के प्रति असम्मान का भाव तो पैदा करता ही है साथ ही जनता के सामने पुलिस की छवि भी धूमिल होती है। उन्होंने वरीय अधिकारियों को भी निर्देश दिया कि समय-समय पर थानों का निरीक्षण करें और उचित मापदंडों के अनुसार वर्दी का उपयोग सुनिश्चित करें एवं ऐसा नहीं करने वाले पुकिसकर्मी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करें।