कोरोना संक्रमण के बीच प्रतिदिन माँझर कुंड में सैकड़ों लोग कर रहे सामूहिक स्नान।

0
89

पी.के. मिश्रा का खास रिपोर्ट
वन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही हो सकती है खतरनाक।

खबर रोहतास जिला के कैमूर पहाड़ी पर स्थित प्रसिद्ध माँझर कुंड जलप्रपात में इन दिनों सैलानियों की भीड़ उमड़ रही है। प्रतिदिन सैकड़ों लोग इस झरने का दीदार करने पहुंच रहे हैं। यहां तक कि झरने में नहा कर आनंद भी ले रहे हैं। लेकिन सबसे बड़ी बात है कि जिस तरह से कोरोना के संक्रमण का दौर चल रहा है। ऐसे में एक साथ सैकड़ों लोगों का सामूहिक स्नान कहीं ना कहीं संक्रमण के लिए खतरा है।
यह कलकल बहते झरने बिहार के रोहतास में है। जिला मुख्यालय से महज 12 से 15 किलोमीटर की दूरी पर कैमूर पहाड़ी पर यह मनोरम झरना स्थित है। खासकर बरसात के दिनों में जून-जुलाई और अगस्त में यहां की दृश्य काफी मनोरम हो जाती है। झरना का ऐसा दृश्य आपको विरले ही देखने को मिलेगा। इस जलप्रपात की चौड़ाई काफी अधिक है। जब पहाड़ों से कलकल बहते पानी नीचे गिरती है।तो प्रकृति का सौंदर्य देखने को मिलता है। झरने की आवाज कानों में संगीत पैदा करती है। और इसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां तक कि प्रतिदिन सैकड़ों लोग इस झरने में स्नान भी करते हैं। लेकिन सबसे बड़ी बात है। कि जिस तरह से फिलहाल कोरोना का तीसरी लहर दस्तक दे रहा है। ऐसी स्थिति में जरूरी है कि लोग एहतियात बरतें।
यह इलाका वन विभाग के अधीन आता है।और वन विभाग ने मांझर कुंड जाने वाले रास्ते पर बैरिकेडिंग की है।और यहां पर अधिकारियों की तैनाती हुई है। वन विभाग की पुलिस भी मौजूद है। लोग कहते हैं कि कोरोना का संकट टल गया है। वही वन क्षेत्र में चहलकदमी रोकने के लिए तैनात वन विभाग के पुलिस तथा कर्मी कहते है। कि वरीय अधिकारियों का आदेश है।कि माँझर कुंड जाने वाले लोगों को रोकना नहीं है। ऐसे में जो लोग माँझर कुंड जा रहे हैं, उन लोगों कि वन विभाग के कर्मी लिस्टिंग कर रहे हैं। अब आप समझ सकते हैं कि जिस तरह से संक्रमण फैलने का खतरा है और ऐसे में वन विभाग माँझर कुंड में भीड़ इकट्ठा करने, सामुहिक स्नान करने की अनुमति दे रखा है। जो कहीं ना कहीं खतरनाक हो सकता है। सरकार ने अनलॉक किया है। ऐसे में एहतियात कम नहीं करने के निर्देश हैं। लेकिन फिर भी किस तरह से जंगल विभाग लापरवाही कर रही हैं। यह खतरनाक हो सकता है।
एक तरफ कोरोना का खतरा, दूसरी ओर माँझर कुंड में प्रतिदिन सैकड़ों लोगों का सामूहिक स्नान, कहीं नहीं कहीं संक्रमण को बढ़ावा दे सकता है। ऐसे में वन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही कहीं सबके लिए खतरनाक ना हो जाए। जरूरी है एहतियात बरतने की और सरकार द्वारा जारी कोविड गाइडलाइंस का पालन कराने की आवश्यकता है। वाइट 1, मुकेश पांडे (सैलानी)

2_मुकेश कुमार (सैलानी)

,3_कामेंद्रकुमार( पुलिसकर्मी) वन विभाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here